tax जमा कर दिया है या फिर आपका ज्यादा TDS कट गया है। तो उस अतिरिक्त Tax को आप Refund Claim के माध्यम से वापस पा सकते हैं। इस ज्यादा रकम पर सरकार आपको 6 प्रतिशत की दर से ब्याज भी चुकता करती है। Refund की इस
रकम पर ब्याज की गणना एक अप्रैल से लेकर रिफंड पेमेंट की
तारीख तक होती है। लेकिन अगर आप लेट रिटर्न भरते हैं तो
ब्याज की गणना रिटर्न भरने की तारीख से शुरू होगी। जाहिर है,
जितना लेट आप Income Tax Return दाखिल करेंगे, उतना क्सर लोगों की जिज्ञासा उस वित्तीय वर्ष के
ही आपके Refund पर ब्याज कम मिलेगा। Income Tax Return भरने की अंतिम तारीख
आगे कहीं नुकसान का समायोजन (Last Date) को जानने की होती है। विशेषकर, ऐसे लोग जो पहली बार Income Tax Return
नहीं कर सकते। भरने जा रहे हैं। या फिर ऐसे लोग, जो किसी कारणवश Income Tax Return की समय
अगर आप देरी से Income Tax Return भरते हैं तो इस सीमा खत्म होने के आसपास Return भरते हैं।
साल हुआ capital loss को आगे के वर्षों में समायोजित और ऐसे लोग भी, जिन्हें हर साल Income Tax
(carry forward) नहीं कर सकेंगे। हम आपको बता दें कि Return भरने की तारीख आगे बढ़ने की उम्मीद
टाइम पर भरे रिटर्न के साथ business, profession, रहती है।
capital gains और अन्य स्रोतों से Income पर हुए नुकसान तो आइए जानते हैं कि वित्तीय वर्ष 2017-18
के Adjustment की सुविधा मिलती है। के लिए Income Tax Return भरने की अंतिम
बकाया टैक्स देनदाटी पर तारीख क्या है? और हां, अंतिम तारीख तक Income Tax Return न भरने के नुकसान क्या
ब्याज और जुर्माना हैं? यह भी हमने इस लेख में बताया है। सामान्य करदाताओं (Individuals) के
Income Tax Return भरने के साथ ही आप अपनी लिए- 31 July 2018 रूप से इसके लिए आपके पास चार महीने (अप्रैल, मई, जून, लेकिन विलंब शुल्क (Late Fee/Penaulty) के साथ। यह आपको निम्नलिखित नुकसान हो सकते हैं
आमदनी और टैक्स देनदारी (Tax Liablity) का पूरा-पूरा कंपनियों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों जुलाई) तक का समय होता है।
विलंब शुल्क किस स्थिति में और कितना लगता है, यह हमने
5 से 10 हजार तक जुर्माना
हिसाब कर देते हैं। अगर आप Income Tax Return नहीं अगले पैराग्राफ में बताया है। (Businesses) के लिए (जहां audit की जरूरत पड़ती।
भरते हैं और हो सकता है कि आप अपनी वास्तविक टैक्स अंतिम तारीख के आसपास रिटर्न | 30 September 2018
विलंब से रिटर्न भरने की समय सीमा
देना पड़ सकता है
देनदारी (Actual Tax Liablity) जान ही न पाएं। ऐसे में फाइनेंशियल ईयर औट असेसमेंट ईयर
जितना कम Income Tax आपने जमा किया है, उसे तो बाद भरने से परहेज करें
घटकर हुई एक साल
अगर आप पहले से निर्धारित अंतिम तिथि 31 जुलाई में भरना ही पड़ेगा, साथ ही उस पर ब्याज (Interest) भी का रखें ध्यान नियमतः तो आप 1 अप्रैल से 31 जुलाई तक कभी भी।
2018 तक Income Tax Return नहीं भरते हैं तो लेट अलग से देना होगा। Income Tax Department आपसे अपना Income Tax Return भर सकते हैं। लेकिन, जैसे- एक नई शर्त जो वित्तीय वर्ष 2017-18 से लागू हुई है वह Income Tax Return के साथ 5 हजार रुपए जुर्माना भी बकाया टैक्स देनदारी पर 1 प्रतिशत के हिसाब से ब्याज यहां बताई गई अंतिम तारीख, वित्तीय वर्ष 2017-18 के जैसे अंतिम समय आता है, Income Tax Department के यह कि वित्तीय वर्ष (financial Year) पूरा होने के बाद 1 भरना होगा।
वसूलता है। Income Tax Return जितना लेट जमा करेंगे, | Income Tax Return के लिए है। यानी कि आपको इस रिटर्न सर्वर पर लोड बढ़ता जाता है। हो सकता है आपके Income साल के अंदर (late Fee के साथ) उसका Income Tax & । लेकिन, लेट Income Tax Return भी 31 दिसंबर यह नुकसान उतना ही बढ़ता जाएगा। | में 1 अप्रैल 2017 से लेकर 31 मार्च 2018 तक हुई आमदनी Tax Return भरने की प्रक्रिया में इसी कारण से रुकावट आ Return भर देना होगा। जैसे कि वित्तीय वर्ष 2016-17 के 2018 तक नहीं भरते हैं तो फिर बाद में 31 मार्च तक लेट और टैक्स पेमेंट का हिसाब देना होगा। चूंकि इस आमदनी और जाए। बेहतर होगा कि समय निकालकर, जल्द से जल्द लिए Late इनकम टैक्स रिटर्न भी हर हाल में 31 मार्च 2018 Income Tax Return के साथ जुर्माना 5 हजार रुपए से
जानबूझकर रिटर्न न भरने टैक्स का हिसाब-किताब वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान Income Tax Return भरने की कोशिश करें। ऐसा करने से तक भर दिया जाना था। पहले यह समय-सीमा, वित्तीय वर्ष पूरा बढ़कर 10 हजार रुपए हो जाएगा।
के दोषी पाए गए तो.. होता है इसलिए इस रिटर्न का असेसमेंट वर्ष 2018-19 होगा। आपको Return भरने के लिए जरूरी Documents को भी होने के 2 साल बाद तक रहती थी। अब अगर आप एक साल । नया वित्तीय वर्ष समाप्त होने तक यानी 31 मार्च 2018 तक 1 अप्रैल 2018 से शुरू हो चुके नए वित्तीय वर्ष (2018- इकट्ठा करने का समय मिल जाता है और हड़बड़ी में अनावश्यक तक Income Tax & Return नहीं भर पाते हैं तो बाद में भी भी Income Tax Return नहीं भरते हैं तो आपको | अगर आपने जानबूझकर टैक्स न जमा करने और Income 19) की आमदनी व टैक्स भुगतान का Income Tax गलतियां (Errors) करने से भी बच जाते हैं।
कभी भी उस वित्त वर्ष का Income Tax & Return भरने । उसके बाद Income Tax Return भरने को कोई मौका Tax Return भी न दाखिल करने की जुर्रत की है तो आपके Return अगले साल (2019 में) भरा जाएगा।
का मौका नहीं दिया जाएगा।
नहीं मिलेगा।
खिलाफ Income Tax Act के Section 276CC के तहत अंतिम तारीख के बाद भी भर
छोटे करदाताओं (small tax payers) को इस जुर्माने की कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है। Section 276CC के तहत, वित्तीय वर्ष पूरा होने की अगली तारीख से
इनकम टैक्स रिटर्न समय पर सकते हैं रिटर्न
रकम में छूट दी गई है। जिनकी आमदनी 5 लाख रुपए से ऐसे मामलों में जहां कि 25 हजार रुपए या इससे ज्यादा टैक्स ही भर सकते हैं।
न भरने के नुकसान
ज्यादा नहीं है, उन्हें देरी से Income Tax Return भरने चोरी का मामला बनता है उनमें 6 महीने से 7 साल तक की Income Tax Return भरने की अंतिम तिथि (last
पर अधिकतम 1000 रुपए तक ही जुर्माना भरना होगा। जेल और जुर्माने का नियम है। ऐसे मामले में जानबूझकर किसी भी वित्तीय वर्ष की कमाई के लिए आप उस वित्त वर्ष Date) बीत जाने के बाद भी विलंब शुल्क (Penalty) के वित्तीय वर्ष 2017-18 से Income Tax & Return भरने ।
टैक्स रिफंड पर ब्याज का नुकसान
| Income Tax Return नहीं भरा है तो भी यही नियम लागू के पूरे होने (31 मार्च) के बाद अगली तारीख (1 अप्रैल) से साथ Income Tax Return भरने का मौका होता है। इनकम को लेकर सरकार ने कुछ नियम कड़े किए हैं। नये नियमों के ।
होगा। हालांकि, Section 276CC के तहत कुछ हल्के मामलों आप Income Tax Return दाखिल कर सकते हैं। सामान्य टैक्स एक्ट का section 139(4) इसकी इजाजत देता है, मुताबिक टाइम से Income Tax & Return न भरने पर | किसी वित्तीय वर्ष के दौरान अगर आपने ज्यादा advance में 3 महीने से 3 साल तक की सजा और जुर्माने का नियम है।

Leave a Reply

Close Menu
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial