भूमि अधिग्रहण के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन 82वें दिन भी जारी

आगरा, 23 दिसम्बर 2018 (आईपीएन/आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश में रविवार को किसान नेता और पूर्व प्रधानमंत्री चरण सिंह की 116वीं जयंती मनाई गई, जबकि भूमि अधिग्रहण को लेकर किसानों का प्रदर्शन 82वें दिन जारी रहा। आगरा से 10 किलोमीटर दूर युमना एक्सप्रेसवे स्थित चालेसर चौराहे पर सैकड़ों विस्थापित किसान धरने पर बैठे रहे। प्रदर्शनकारी किसान प्रदेश सरकार द्वारा जेपी समूह के लिए एक्सप्रेसवे की जमीन का अधिग्रहण करने का विरोध कर रहे हैं। किसानों ने कहा कि जेपी समूह की टाउनशिप के लिए 500-500 एकड़ के पांच भूखंडों का अधिग्रहण करने की योजना बनाई गई थी, जिसके लिए खेती की जमीन का अधिग्रहण किया गया।
प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे मनोज शर्मा ने कहा, “किसानों से जबरन जमीन खाली करवाई गई और रिकॉर्ड में बदलाव किया गया।”
प्रदर्शनकारियों के साथ उनके परिवार के सदस्य और बच्चे भी प्रदर्शन कर रहे हैं। शर्मा ने कहा, “सभी दलों के नेता आए और उन्होंने सहानुभूति दिखाई व शीघ्र कार्रवाई करने के वादे किए, मगर कुछ नहीं हुआ।”
एतमादपुर तहसील के किसान जबरन उनकी जमीन खाली कराने और अधिग्रहण करने के खिलाफ दो साल से संघर्ष कर रहे हैं। उनकी मुख्य शिकायत है कि डेवलपर को खुश करने के लिए एक्सप्रेसवे के वास्ते ज्यादा जमीन का अधिग्रहण किया गया।
शर्मा ने कहा, “यमुना नदी के साथ लगे इलाके की जमीन खेती के लिए उपजाऊ है और किसान सैकड़ों सालों से वहां अपनी जमीन जोत रहे थे। अचानक उनको जमीन से वंचित होना पड़ा है।”

kissan.jpg

Leave a Reply

Close Menu